Handwriting कैसे सुधारे

Handwriting (लिखावट) कैसे सुधारे – How To Improve Handwriting

अगर आप एक स्टूडेंट हैं और आपकी लिखावट यानी हैण्डराइटिंग खराब है तो आप इसके दुष्प्रभावों से अच्छी तरह वाकिफ होंगे.  इसीलिए आज की हमारी पोस्ट में हम आपको बताने वाले हैं How To Improve Handwriting In Hindi यानी अपनी Handwriting कैसे सुधारे.

खराब लिखावट के चलते आपको अक्सर अपने Teachers से डांट भी खानी पड़ती होगी. लेकिन कुछ लोगों का मानना होता है हैण्डराइटिंग ख़राब हो या अच्छी इस चीज़ से कोई ख़ास फर्क नहीं पड़ता. ये बात बिलकुल गलत है. अच्छी Handwriting के बहुत सारे फायदे होते हैं इसलिए आपको सोचना चाहिए की अपनी लिखावट कैसे सुधारे.

मान लेते हैं आप पढाई लिखाई में बहुत तेज हैं, लेकिन आपकी लिखावट बहुत ही खराब है तो ये क्लास में आपके रुतबे पर एक दाग की तरह है. इसी तरह पढाई लिखाई में बहुत तेज होते हुए भी जब आप किसी को कुछ लिखकर देते हैं, या किसी के सामने लिखते हैं तो सामने वाला आपको बिलकुल Dull और पढाई लिखाई में कमजोर ही समझता है.

हो गयी ना इज्जत खराब, अब चाहे आप उसे कितना ही बताएं की मै पढाई में बहुत इंटेलीजेंट हूँ. लेकिन उसके दिमाग में आपकी Handwriting को देखकर आपकी एक बेकार सी इमेज बन जाती है. Handwriting किसी भी स्टूडेंट के लिए उसका First Impression होती है, ये बात आप आज से अपने दिमाग में बिठा लीजिये.

इसके ठीक उलट अगर कोई लड़का ज्यादा Intelligent भी नही है लेकिन उसकी लिखावट बहुत अच्छी है तो लोग उससे Impress हो जाते हैं. चाहे फिर सहपाठी हों, अध्यापक हों या फिर बाहर के लोग. हम सिर्फ Impression के लिए आपको handwriting सुधारने को नहीं कह रहे हैं. इसके और भी बहुत से फायदे हैं जो आपकी Education Life से जुड़े हुए हैं.

Handwriting Improvement Tips In Hindi – लिखावट कैसे सुधारे

अगर आपकी लिखावट बहुत ही खराब है तो सब कुछ सही करने के बावजूद आपको कम नंबर मिलते हैं. कभी सोचा है क्यों? क्योंकि आप अपने हिसाब से तो सब कुछ सही करते हो, लेकिन उसे जांचने वाले अध्यापक को उसे समझने में काफी दिक्कत होती है.

कई बार तो आपकी लिखावट समझ ना आने के कारण आपका सही जवाब भी गलत कर दिया जाता है. इसीलिए जब तक आप Handwriting सुधारने के तरीके नहीं ढूंढते और उसमें सुधार नहीं करते तब तक आपको हमेशा कम Marks ही मिलते रहेंगे. इसके विपरीत अच्छी लिखावट वालों को काफी अच्छे नंबर मिल जाते हैं.

क्योंकि उनके द्वारा लिखे गए जवाब बहुत ही स्पष्ट होते हैं जो की आसानी से समझ आ जाते हैं. कई बार तो बहुत ही अच्छी Handwriting से प्रभावित होकर अध्यापक उन्हें Extra Marks भी दे देते हैं. ख़राब लिखावट का सीधा असर आपके रिजल्ट पर पड़ता है. अब बात करते हैं Student Life के बाद के समय की.

How To Improve Handwriting In Hindi

तो भले ही आज Computer का ज़माना है और हाथ से लिखने का काम बहुत ही कम हो गया है. लेकिन फिर भी अच्छी लिखावट के महत्व को नज़रंदाज़ नहीं किया जा सकता. अक्सर खराब handwriting होने के कारण कई स्टूडेंट्स का आत्म विश्वास बहुत ही कम हो जाता है जिसका असर उसकी पढाई लिखाई पर जरूर पड़ता है.

कई Students का सोचना होता है की लिखावट को सुधारा नहीं जा सकता, ये नेचुरल होती है. ऐसा बिल्कुल भी नहीं है अगर आप दृढ़ संकल्प करें तो ऐसा आसानी से हो सकता है. बस आपको कुछ Tips follow करने होंगे और निरंतर अभ्यास करना होगा. चलिए बताते हैं आपको Handwriting सुधारने के लिए क्या करें.

How To Improve Handwriting In Hindi – Handwriting कैसे सुधारे

देखिये सबसे पहले तो आपको बतादें की लिखावट सुधारने का काम सिर्फ 1 दिन में नहीं किया जा सकता है. इसमें समय लगता है और आपको थोडा संयम रखने की जरुरत होती है. यहाँ हम आपको अपनी Handwriting सुधारने के लिए कुछ Tips दे रहे हैं. आपको इनको ध्यान में रखने हुए अपनी Practice शुरू करनी है.

(1) 1 अक्षर से शुरुआत – देखिये लिखावट सुधारने के लिए आपको बिलकुल शुरू से अपना अभ्यास शुरू करना होगा. आप एक एक अक्षर को ध्यान से देखिये, उसकी बनावट को देखिये और उसे दिमाग में बिठाइए. अब अलग अलग अक्षर को बिलकुल सही बनावट में लिखने का अभ्यास करें.

क्योंकि आप जो लिखते हो वो एक एक अक्षर को मिलाकर ही बना होता है. जब आप अक्षर ही सुन्दर नहीं बना पाओगे तो लिखावट कैसे सुधरेगी. एक बार “अ” से लेकर “ज्ञ” तक सभी अक्षरों को सुन्दरता से लिखने का अभ्यास कीजिये. इसमें आपको ज्यादा से ज्यादा 10 से 15 दिन का समय लगेगा.

(2) गोलाकार अक्षरों पर ध्यान दें – हिंदी में बहुत से ऐसे अक्षर होते हैं जिनको लिखते समय गोला बनाना पड़ता है. जैसे “क”, ग, ट, ठ, ह और क्ष आदि. बहुत सारे स्टूडेंट्स ये गोला सही नहीं बनाते जिसकी वजह से अक्षर का आकार बिगड़ जाता है और वो भद्दा दिखने लगता है.

आपको इन गोलाई वाले अक्षरों को लिखने की प्रैक्टिस करनी है, क्योंकि जब गोलाई सुन्दर होगी तो अक्षर सुन्दर होगा, अक्षर सुंदर होंगे तो शब्द सुन्दर होंगे और शब्द सुन्दर होंगे तभी तो आप की handwriting सुन्दर बनेगी. इसलिए अगर आप सोच हैं की Handwriting कैसे सुधारे तो इन चीज़ों पर ध्यान देना जरूरी है.

(3) अक्षर की लाइन सीधी खींचे – हिंदी भाषा में हमें बहुत सारे ऐसे अक्षर लिखने होते हैं जिनमें सीधी रेखा खींचनी पड़ती है. यहीं पर बहुत सारे लोग गलती कर देते हैं, वो टेढ़ी मेढ़ी रेखा खींच देते हैं. जिससे उस अक्षर का आकार बिगड़ जाता है. ऐसे अक्षरों में बहुत सारे अक्षर आते हैं जैसे अ, आ, क, ख, ग, घ, और ज्ञ आदि.

ऐसे बहुत सारे अक्षर हैं जिनमें सीधी रेखा खींचनी पड़ती है. ऐसे अक्षरों की संख्या ज्यादा होने के कारण ही हमारी handwriting खराब होती है. क्योंकि हम किसी इस रेखा को सीधा नहीं खींचते. और हर शब्द में कोई ना कोई सीधी लाइन वाला अक्षर तो जरूर होता है. तो सीधी लाइन खींचने का अभ्यास कीजिये.

(4) शब्द पर ध्यान दीजिये – जब 1 महीने में आपकी अक्षरों को सुन्दरता से लिखने की बढ़िया प्रैक्टिस हो जाए तो शब्दों पर आ जाएँ. जब भी हम अक्षरों को मिलाकर कोई शब्द लिखते हैं तो उस शब्द के ऊपर सीधी लाइन खींचते हैं. ये सीधी लाइन भी आपकी लिखावट पर काफी प्रभाव डालती है.

अगर आप वो लाइन बिलकुल सीधी खींचेंगे तो शब्द सुन्दर लगेगा और यदि टेडी मेढ़ी खेंचेंगे तो आपका शब्द भद्दा दिखने लगता है. इससे अक्षरों को सुन्दर बनाने के लिए की गयी मेहनत भी खराब हो जाती है. इस लाइन को बिलकुल सीधा खींचने की प्रैक्टिस करें. ये बहुत ही जरूरी लिखावट सुधारने के तरीके हैं.

(5) अक्षर का साइज़ – ये भी बहुत ही महत्वपूर्ण चीज़ है, इस पर ध्यान देकर आप अपनी Handwriting को काफी हद तक सुधार सकते हो. इसमें आपको अक्षरों को सही साइज़ में बनाना होता है. ना तो ज्यादा बड़े और ना ही ज्यादा छोटे.

Handwriting कैसे सुधारे

इसके अलावा दूसरी ध्यान रखने वाली बात ये है की आपको सभी अक्षरों का साइज़ बिलकुल एक सामान रखने का अभ्यास करना है. बहुत से लोग किसी अक्षर को बड़ा लिखते हैं और किसी को बिलकुल छोटा. इससे शब्द बहुत ही भद्दा दिखने लगता है. इन छोटी छोटी लेकिन आधारभूत चीज़ों पर ध्यान देना जरुरी है.

(6) शब्दों की दूरी – इन सब चीज़ों की प्रैक्टिस के बाद आपको 2 शब्दों के बीच की दूरी पर ध्यान देना है. आपको सभी शब्दों के बीच में बराबर और पर्याप्त जगह देनी है. अगर आप किसी जगह पर कम और किसी जगह पर ज्यादा जगह देंगे तो आपके द्वारा लिखा गया Paragraph भद्दा सा दिखाई देगा.

लेकिन यदि आप शब्दों के बीच हर जगह बिलकुल सही और बराबर जगह देंगे तो आपके द्वारा लिखा गया Paragraph बहुत ही सुन्दर और आकर्षक लगेगा. ये कोई बहुत ही मुश्किल चीज़ नहीं है, बस आपको लगातार अभ्यास करना है.

(7) जल्दबाजी बिलकुल ना करें – How To Improve Handwriting हिंदी में Step By Step बताने का हमारा मकसद यही है की कोई भी चीज़ हमसे छूटे ना. और हम आपका हर छोटी चीज़ पर ध्यान दिलवाएं जिसकी वजह से आपकी लिखावट खराब हो रही है. जल्दबाजी एक ऐसी ही गलती है जो पूरा खेल खराब कर देती है.

आपको लिखते समय बहुत ज्यादा जल्दी नहीं करनी है. अपने दिमाग को शांत करें और हर शब्द को आराम से समय लेकर लिखें. हो सकता है शुरुआत में आपको थोडा टाइम लगे लेकिन समय के साथ साथ आपकी लिखने की स्पीड भी बेहतर होगी और Handwriting तो सुधरेगी ही. अपने आप को समय दें.

(8) कलम को सही से पकड़ें – बहुत से Students ऐसे होते हैं जो शुरुआत से ही Pen या Pencil को गलत तरीके से पकड़ते आ रहे हैं. इसीलिए उनकी लिखावट नहीं सुधर पायी. कलम को हमेशा इस तरीके से पकड़ना चाहिए की किसी भी तरह के अक्षर का सही आकार बनाने में कोई दिक्कत ना हो.

दूसरी बात कलम पर हमारी Grip सही बन पाए, इस चीज़ पर भी ध्यान देना जरूरी है. अगर कलम पर ग्रिप सही नहीं होगी तो वो इधर उधर अपने आप ही घूम जाएगी. ऐसा होने पर अक्षर की बनावट बिगड़ जायेगी.

(9) मात्राएँ और ख़ास चिन्ह – हिंदी भाषा में बिना मात्राओं और स्पेशल चिन्हों के बगैर कोई भी paragraph पूरा नहीं होता. इसलिए आपको मात्राएँ और चिन्ह सही तरीके से बनाने का भी अभ्यास जरूर करना चाहिए.सभी तरह की मात्राएँ और खास चिन्ह जैसे , :, “, | और . जैसे चिन्हों पर ध्यान देना और उन्हें सही तरीके से इस्तेमाल करना आना बहुत ही जरुरी है.

जैसे आपकी पता होना चाहिए की किसी शब्द को लिखने के बाद उससे कितनी दूर कॉमा का प्रयोग करना चाहिए. मान लीजिये आपको शायद शब्द लिखने के बाद कॉमा लगाना है तो कई लोग (शायद  ,)  शब्द और कॉमा के बीच बहुत ज्यादा स्पेस दे देते हैं जो बहुत ही भद्दा लगता है. इसी तरह मात्राएँ भी ठीक अक्षर के ऊपर लगायें.

(10) अक्षर को पूरा बनायें – अपनी Handwriting कैसे सुधारे ये निर्भर करता है मूल रूप से एक एक अक्षर पर. इसलिए हमेशा हर अक्षर को आपको पूरा लिखना चाहिए. बहुत से लोग कई अक्षरों को आधा अधूरा लिखते हैं.

वो चाहे अपनी लिखावट को स्टाइलिश बनाने के लिए ही क्यों ना करते हों. लेकिन हकीक़त यही है की नेचुरल और सही तरीके से लिखा गया अक्षर ही सबसे सुन्दर माना जाता है और दिखता भी है. इसलिए इस झमेले माँ ना पड़ें. अक्षरों को आधा अधूरा लिखना और उसे इधर उधर झुकाना आपकी Handwriting को ख़राब करता है.

(11) साफ़ सफाई पर ध्यान दें – किसी भी Page में लिखते समय हमेशा साफ़ सफाई का ध्यान रखें. अगर आप पेंसिल से लिख रहे हैं तो बार बार गलत लिखकर उन्हें रबड़ से मिटायें नहीं. इससे आपके द्वारा लिखा गया कंटेंट भद्दा नज़र आने लगता है.

इसी तरह अगर पेन से लिख रहे हैं तो बार बार अक्षरों को काटें नहीं. अगर आपसे ज्यादा गलतियां हो गयी हैं तो दुसरे पेज पर लिखना शुरू करें. और इस बार इस बात का ध्यान रखें की आपसे गलतियाँ ना हों और आप पेन से कांट छांट ना करें.

(12) लगातार अभ्यास – ऊपर हमने आपको लिखावट सुधारने के टिप्स बता दिए हैं. अब आपको इस इन चीज़ों का निरंतर अभ्यास करना है. आपको हर रोज कम से कम 1 घंटा लिखने की प्रैक्टिस करनी है.

क्योंकि हमने आपको शुरू में ही बताया था की इसमें थोडा समय लगता है. बस आप इन सभी टिप्स को ध्यान में रखते हुए अभ्यास में जुट जाइए. हमें पूरा विश्वास है की 2 या 3 महीनों में ही आपकी लिखावट में काफी सुधार हो जाएगा.

इन्हें भी पढ़ें-

आप पढ़ रहे थे हमारी पोस्ट Handwriting कैसे सुधारे – How To Improve Handwriting In Hindi. उम्मीद है लिखावट कैसे सुधारे आपको अच्छे से पता चल गया है, तो अब पोस्ट को share भी कर दीजिये. ताकि दुसरे लोग भी इसका लाभ उठा सकें. धन्यवाद.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *