Ayurved Kya Hai

Ayurveda Kya Hai | आयुर्वेद के फायदे और इतिहास की पूरी जानकारी

Ayurveda In Hindi लेख में आपको बताएँगे Ayurveda Kya Hai और आयुर्वेद के फायदे लाभ क्या क्या हैं. इसके अलावा आप जानेंगे आयुर्वेद का इतिहास कितना पुराना है. आयुर्वेद की जानकारी बहुत कम लोगों को है, इसलिए आज हम आपको आयुर्वेद की पूरी जानकारी अपनी इस पोस्ट के माध्यम से देंगे.

आयुर्वेद के बारे में जानने के लिए हमें बहुत पीछे जाना होगा. जरा सोचिये हजारों सालों पहले रहने वाले लोगों के बारे में, की कैसे रहते होंगे वो लोग, कितना मुश्किल था उनके लिए स्वस्थ रहना. क्या उस समय उनके लिए कोई Doctors उपलब्ध थे? नहीं. फिर कैसे वो इतना लम्बा और स्वस्थ जीवन जी लेते थे?

आज के समय में तो 30% से भी ज्यादा लोग लोग दवाओं के सहारे जिंदा हैं. ये हकीकत है की हमारे पास इतनी सुविधाएँ होते हुए भी हमारी औसत उम्र हमारे ऋषि-मुनियों व् पूर्वजों की तुलना में बहुत कम है. और सिर्फ लम्बी उम्र होने से भी कुछ नहीं होता है, बात यहाँ स्वस्थ जीवन जीने की है.

असल में बात ये है की हमारे ऋषि-मुनियों ने अपनी कड़ी मेहनत और ज्ञान के दम पर एक अलग ही चिकित्सा पद्धति विकसित की, जिसे आयुर्वेद कहा जाता है. उन्होंने सिर्फ प्राकृतिक चीज़ों से ऐसे ऐसे नुस्खे तैयार किये जो आदमी को होने वाले हर रोग को जड़ से काटने का काम करते हैं.

आयुर्वेद का इतिहास बहुत ही पुराना है. हमारा तो ये कहना है की जब से इन्सान इस धरती पर आया है, तब से ही आयुर्वेद की शुरुआत हो चुकी थी. आयुर्वेद के दम पर ही ऋषि-मुनियों ने अपने स्वास्थ्य को सही रखा, अन्यथा वो इतना स्वस्थ और लम्बा जीवन ना जी पाते.

Ayurveda In Hindi – आयुर्वेद का इतिहास

वैसे तो ज्यादातर लोग इसके नाम से ही समझ रहे होंगे की Ayurveda Kya Hai. इसका नाम आयुष + वेद का अर्थ है जीवन विज्ञान, मतलब The Science Of Life. आयुर्वेद एक बहुत ही पुरानी और विश्वशनीय चिकित्सा पद्धति बन चुकी है इसलिए आयुर्वेद की सम्पूर्ण जानकारी आपको होनी ही चाहिए.

Allopathic दवाओं के इतने Side Effects हैं की लोग अब आयुर्वेद की तरफ भाग रहे हैं. एलोपैथिक दवाएं रोग को दबाने का काम करती हैं, जबकि आयुर्वेद रोग की जड़ पर काम करता है और उसे समूल नष्ट करने का काम करता है साथ में इसके कोई दुष्प्रभाव भी नहीं होते.

आयुर्वेद का अपना एक सिद्धांत है, इसके अनुसार शरीर में मुख्य रूप से तीन धातु (वात, कफ और पित्त) होती हैं. अगर इनका संतुलन शरीर में सही से बना रहेगा तो इंसान कभी बीमार नहीं होगा. आज आयुर्वेद इतना Popular हो गया है की बड़े बड़े Doctors और Scientists को भी इसका सम्मान करना पड़ रहा है.

आयुर्वेद का इतिहास

वो खुद भी अब समझने का प्रयास कर रहे हैं की आयुर्वेद कैसे काम करता है, क्योंकि आयुर्वेद में वर्णित चिकित्सा पद्धतियों ने उनका सर चकरा दिया है. उन्हें समझ नहीं आ रहा है की सिर्फ पेड़-पौधों-पत्तियों और सामान्य जड़ी बूटियों से भी बड़ी बड़ी बीमारियों का इलाज़ कैसे हो सकता है.

हम सिर्फ भारत देश की बात नहीं कर रहे हैं, बल्कि अब विदेशों में भी लोग और बड़े बड़े Doctors आयुर्वेद की जानकारी और आयुर्वेद का इतिहास जानने के लिए बेचैन हैं. एक सर्वे के मुताबिक बीमार लोगों में से 85% लोग अपना इलाज़ आयुर्वेदिक दवाओं के माध्यम से करवाना चाहते हैं.

इसके अलावा आप देख रहे होंगे की लोग अब घर में इस्तेमाल होने वाला सामान भी आयुर्वेदिक ही लेकर आते हैं. तो कहने का मतलब ये है की आयुर्वेद ने लोगों के दिलों में जगह बना ली है. आयुर्वेद उन्हें बेहद सस्ता और सुरक्षित लगता है.

What Is Ayurved In Hindi – Ayurveda Kya Hai

आयुर्वेद कोई छोटी चीज़ नहीं है, भारत में इसे लगभग 3000 साल पहले विकसित किया गया था. आयुर्वेद के बारे में पूरी जानकारी देना संभव नहीं है. आप बस इतना समझ लीजिये की आयुर्वेद के फायदे इतने हैं की ये आपकी ज़िन्दगी को बहुत आसान और खुशनुमा बना देते हैं.

आयुर्वेद को साक्षात् भगवान् द्वारा तैयार की गयी चिकित्सा पद्धति माना जाता है. यहाँ आपको एक बात बतादें की आयुर्वेद सिर्फ एक चिकित्सा पद्धति ही नहीं है. आयुर्वेद एक सम्पूर्ण जीवन विज्ञान है जो हमें जीना सिखाता है, हमें स्वस्थ जीने की राह दिखाता है.

आयुर्वेद हमें हमेशा खुश रहने की प्रेरणा देता है. आयुर्वेद के अनुसार आध्यात्म अपनाने से जीवन में आने वाला हर कष्ट आपसे दूर ही रहता है. कहने का मतलब ये है की आयुर्वेद आध्यात्म और प्राकृतिक चिकित्सा का मेल है. तो Ayurveda Kya Hai इसका अंदाजा आपको हो गया होगा.

आयुर्वेद की ख़ास बात ये है की इसमें किसी भी प्रकार के Chemical के लिए कोई जगह नहीं है. आयुर्वेद के अनुसार जब तक शरीर और मन का सही संतुलन बना रहता है तब तक व्यक्ति को किसी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं होती.

कहने का मतलब ये है की हमारा स्वास्थ्य हमेशा इस बात पर निर्भर करता है की आपके शरीर और आपके मन के बीच कैसा संतुलन है.

आयुर्वेद के फायदे

आयुर्वेद का अपना एक अलग तर्क है. इसके अनुसार इस दुनिया में रहने वाले हर व्यक्ति का शरीर ब्रह्माण्ड में पाए जाने वाली इन 5 चीज़ों पृथ्वी, जल, आकाश, वायु और अग्नि से बना है. ये पाँचों मिलकर व्यक्ति के शरीर में 3 विशेष प्रकार के उर्जा बलों का निर्माण करते हैं.

इन्हें दोष का नाम दिया गया है, वात दोष, पित्त दोष और कफ दोष. आयुर्वेद के अनुसार यही 3 वो तत्व हैं जो आपको पूरी तरह से नियंत्रित रखते हैं. ये ना सिर्फ आपकी Body को अपने Control में रखते हैं, बल्कि आपका मन भी इन्ही के अनुसार चलता है.

जब भी आपके शरीर में इन तत्वों का संतुलन बिगड़ता है, यानी कोई तत्व कम या ज्यादा हो जाता है तो आपका शरीर किसी ना किसी बीमारी की चपेट में आ जाता है. तो आयुर्वेद में हर बीमारी का इलाज करने के लिए इन तीनों दोषों में संतुलन पैदा किया जाता है. आयुर्वेद में इलाज की यही पद्धति है.

आयुर्वेद शरीर में पैदा हुयी हर बीमारी का कारण शरीर में मौजूद गंदगी को मानता है. इसके अनुसार यदि शरीर में अपशिष्ट पदार्थों को जमा ही ना होने दिया जाए तो आप कभी बीमार ही नहीं पड़ेंगे. इसलिए आयुर्वेद में एक बहुत ही प्रभावी चिकित्सा प्रणाली को अंजाम दिया जाता है जिसका नाम है “पंचकर्म”.

पंचकर्म के तहत आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों, दवाओं, और शोधन का उपयोग करके आपके शरीर में जमा सारी गंदगी को बाहर निकाला जाता है. इसमें गैसें, अधपचा सडा हुआ खाना, रासायनिक पदार्थ और अन्य कई तरह के अपशिष्ट पदार्थ होते हैं. आयुर्वेद के अनुसार शरीर की अंदरूनी सफाई से व्यक्ति हमेशा के लिए रोगमुक्त हो जाता है.

Ayurveda द्वारा तैयार की गयी किसी भी औषधि में किसी प्रकार के रसायन का प्रयोग नहीं किया जाता है, यही कारण है की इनके कोई Side Effects नहीं होते हैं और ये बहुत ही सुरक्षित होती हैं. आयुर्वेद से ऐसे ऐसे रोगों का उपचार भी संभव है जिनका विज्ञान के पास अभी कोई इलाज़ ही नहीं है.

आयुर्वेद के फायदे, नियम और सिद्धांत – Rules And Benefits Of Ayurveda In Hindi

चलिए अब पोस्ट को ज्यादा लम्बी ना करते हुए जानते हैं आयुर्वेद के लाभ कौन कौन से हैं. किस प्रकार आयुर्वेद हमारे जीवन को आसान और स्वस्थ बनाता है. आयुर्वेद का सबसे पहला फायदा ये है की ये हमें जीवन जीने की सही कला सिखाता है.

किस प्रकार से आदमी को अपना जीवन जीना चाहिए, क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए, ये सब आयुर्वेद हमें सिखाता है. इसके अलावा हम आपको पहले भी बता चुके हैं की आयुर्वेद के किसी प्रकार के कोई Side Effects नहीं होते.

Ayurved Kya Hai

इसलिए ऐसा नहीं होता की एक रोग को ठीक करने के लिए दवा ली तो दुष्प्रभाव के रूप में दूसरा रोग उभरकर सामने आ गया. आपने कभी नहीं सुना होगा की किसी को भी आज तक आयुर्वेदिक दवा लेने के कारण कोई समस्या हुई हो, ये पूरी तरह सुरक्षित होती हैं.

आयुर्वेद हमारी उम्र बढ़ा सकता है, आयुर्वेद के फायदों में ये एक सबसे बड़ा फायदा है. अगर आप आयुर्वेद के सिद्धांत अनुसार चलेंगे तो निश्चित ही आपकी उम्र बढ़ेगी, और ना सिर्फ उम्र बढ़ेगी, बल्कि जब तक आप जियेंगे, तब तक स्वस्थ रहेंगे.

आयुर्वेद में ऐसे कुछ ख़ास नुस्खे बताये गए हैं जिनका अनुसरण करके हम सदा स्वस्थ और खुश रह सकते हैं. आयुर्वेद कभी भी किसी रोग को Target नहीं करता है, यह उस कारण को पकड़ता है जिसके कारण आपको वो रोग हुआ है.

कुछ दिन लगातार आयुर्वेदिक दवाओं के सेवन से यह उस कारण को ही नष्ट कर देता है जिसके कारण आपको वो दिक्कत हुयी. ना रहेगा बांस, ना बजेगी बांसुरी वाली कहावत को चरितार्थ करता है आयुर्वेद. इसके अपने अलग ही तरीके और नियम हैं.

आयुर्वेद असाध्य बीमारियों को ठीक करने का दम रखता है. इसके अनुसार इस दुनिया में जो भी रोग है उसका इलाज़ आदमी की अपनी ही खाने पीने की चीज़ों में होता है. बस जरुरत है तो उनको पहचानने की.

जिन बीमारियों का इलाज़ आज भी हमारे वैज्ञानिक खोज रहे हैं, उनका इलाज हमारे ऋषि-मुनि वर्षों पहले खोज चुके हैं. Ayurveda Benefits में एक बड़ा फायदा ये है की ये Allopathy की तुलना में बहुत सस्ता भी पड़ता है.

जिससे गरीब लोग भी आयुर्वेदिक चिकित्सा से अपने रोग को ठीक करा सकते हैं. हमारे देश में 75% जनता गरीब है जिनके पास एलोपैथिक दवाओं के लिए पर्याप्त पैसा नहीं है. इसका सबसे बड़ा फायदा यही है की गरीब लोग भी आयुर्वेद के लाभ ले सकते .

इन्हें भी पढ़ें –

तो दोस्तों ये थी हमारी पोस्ट Ayurveda Kya Hai – Ayurveda In Hindi, उम्मीद है आयुर्वेद के फायदे और इतिहास की जानकारी आपको अच्छी लगी होगी. पोस्ट आपको कैसी लगी comment करके जरूर बताएं.

अगर आप हमारे साथ जुड़ना चाहते हैं तो हमारे Facebook Page को Like करें और हमें Subscribe जरूर कर लें. पोस्ट को Like और Share करना बिलकुल ना भूलें. धन्यवाद्.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *