प्यार क्या है और क्यों होता है

प्यार (Love) क्या है और क्यों होता है | What Is Love In Hindi

What Is Love In Hindi लेख के माध्यम से हम आपको समझाने की कोशिश करेंगे प्यार क्या है और क्यों होता है. प्यार (प्रेम) यानी Love क्या होता है ये हर कोई व्यक्ति जानना चाहता है. पर प्यार के अर्थ के बारे हर व्यक्ति की अपनी अलग अलग राय होती है। प्यार की अलग-अलग परिभाषाएं होती हैं।

प्यार शब्द को समझना इतना आसान नहीं है। जितना कि लोग इसे आसान समझते हैं। हर किसी के मन में बहुत सारे  Confusion होती हैं कि आखिरकर प्यार क्या है। अगर आप भी प्यार के शब्द को लेकर असमंजस में है और आपको अभी तक यह समझ में नहीं आ रहा है कि Love क्या होता है तो इस लेख में लीजिये पूरी जानकारी.

कई लोग Attraction यानी आकर्षण को ही प्रेम समझने की भूल कर बैठते हैं. Love और Attraction दो अलग अलग चीज़ें हैं और इन दोनों में काफी अंतर होता है. इस चीज़ के बारे में भी हम यहाँ समझने की कोशिश करेंगे की Attraction प्यार (Love) से Different कैसे होता है?

What Is Love In Hindi – प्यार क्या है

प्यार एक ऐसा शब्द है जिसे हर व्यक्ति समझना और जानना चाहता है। Love की वैसे तो बहुत सारी Definitions है पर हम आपको प्यार के बारे में  बहुत ही आसान शब्दों में समझाना चाहते हैं। प्यार के हर रिश्ते में एक अलग मायने होते हैं।

कोई व्यक्ति अपनी Girlfriend से करता है, तो कोई प्यार अपने माता-पिता से करता है और कोई अपने बच्चों से प्यार करता है। हर रिश्ते में प्यार की अपनी अलग अहमियत रखते हैं। प्यार हमारी जिंदगी में एक बहुत ही महत्वपूर्ण रोल निभाता है.

आपके पास चाहे जितना धन दौलत पैसा हो अगर आपको प्यार करने वाले लोग नहीं मिलेंगे तो आपकी जिंदगी बहुत ही बेकार हो जाती है। क्योंकि जहां पर प्यार होता है वहीं पर केवल खुशियां होती हैं. और जहां प्यार नहीं होता है वहां कभी खुशियां नहीं होती है यही जिंदगी की सबसे बड़ी सच्चाई है।

कहते हैं कि प्यार में वह ताकत होती है कि आप प्यार की मदद से किसी पत्थर दिल इंसान या प्राणी को आसानी से पिघला सकते हो। प्यार क्या है इसे हम आपको एक छोटे से उदाहरण के माध्यम से समझाना चाहते हैं। आप अपने आस पास बहुत से जानवर देखते होंगे.

What Is Love In Hindi

अगर हम किसी जानवर के ऊपर केवल प्यार से एक हाथ रखकर ही सहला दें तो वो आपकी तरफ आकर्षित हो जाते हैं. यानी वह जानवर प्यार भरी आंखों से आपकी तरफ निहारते रहते हैं। आप इस चीज को क्या समझेंगे इसे तो ही प्यार कहते हैं।

इसीलिए हम कहते हैं कि प्यार के हर जगह पर अपने अलग ही मायने होते हैं। अगर आप अपनी गर्लफ्रेंड से प्यार करते हैं। तो आपको अपनी गर्लफ्रेंड को उसी प्यार की  नजरिया से देखना और प्यार करना होता है. अगर वहीं  पर आप अपने मम्मी पापा से प्यार करते हैं तो वो अलग तरीके का प्यार है.

हर एक Relationship को अच्छे से निभाने के लिए प्यार बहुत ही जरूरी होता है। हम आपको यकीन के साथ कहना चाहते हैं अगर आप किसी से प्यार से बात करेंगे तो गुस्सैल व्यक्ति भी आपको गुस्से से जवाब नहीं देगा बल्कि आपको प्यार से ही जवाब देगा।

 प्यार की परिभाषा क्या है

जैसे कि हमने आपको पहले ऊपर ही बताया है की प्यार की कोई परिभाषा नहीं होती है। अगर हम Love की Defenition जानने के चक्कर में पड़ेंगे तो हम उसी में उलझ कर रह जाएंगे। प्यार एक खूबसूरत एहसास होता है जो हर व्यक्ति को किसी ना किसी के साथ अवश्य होता है।

प्यार बस ऐसी Feelings होती हैं जिन्हें हम अपने जज्बात और दिल से महसूस कर सकते हैं। प्यार में वह ताकत होती है आप चाहे तो प्यार के दम से सारी दुनिया का दिल जीत सकते हैं.

अगर आप अपनी जिंदगी को हसीन पलों के साथ जीना चाहते हैं तो आपको प्यार करना अवश्य आना चाहिए। कहते हैं कि प्यार में वह ताकत होती है की खराब से खराब रिश्ते भी प्यार के दम से जिंदगी भर के लिए अमर हो जाते हैं।

 प्यार और आकर्षण में क्या अंतर है

शायद ही बहुत ही कम लोगों को प्यार और आकर्षण के बारे में मालूम हो। हम आपको प्यार (Love) और आकर्षण (Attraction) के बारे में क्या अंतर है इसके बारे में बताने की पूरी कोशिश करेंगे.

प्यार और आकर्षण को लेकर कुछ लोगों के बीच बहुत अधिक गलतफहमी भी हैं. कुछ लोग प्यार और आकर्षण को एक ही समझ लेते हैं। पर हम आप लोगों को बता दें कि प्यार और आकर्षण में जमीन आसमान का अंतर होता है।

” इसीलिए एक कहावत है कि आकर्षण किसी विषय हो सकता है पर प्यार नहीं “

हम अब आपको प्यार और आकर्षण के बारे में कुछ Point to Point बताते हैं जिसकी मदद से आपको प्यार और आकर्षण को समझने में बहुत आसानी होगी. प्यार कभी  किसी व्यक्ति सुंदरता देखकर नहीं होता है। सच्चा प्यार तो केवल तो उस व्यक्ति की अच्छाई और मासूमियत से होता है.

प्यार हमें बस यूँ ही किसी को देखकर नहीं होता है। सच्चा प्यार तो केवल उस व्यक्ति को जानने और समझने के बाद होता है। कहते हैं कि सच्चे प्यार में कोई जल्दबाजी नहीं होती है। सच्चे  प्यार में कोई मतलब नहीं होता है। सच्चा प्यार हरदम एक दूसरे के भरोसे पर कायम होता है।

आकर्षण हरदम किसी व्यक्ति की खूबसूरती और Body Language से होता है, जो कि अधिकतर एक तरफा ही होता है. आकर्षण कभी भी दोनों तरफ से नहीं होता है। आकर्षण में या तो कोई लड़का लड़की को देखकर आकर्षित होता है, या फिर कोई लड़की लड़के को देखा आकर्षित होती है.

आकर्षण में एक सबसे बड़ी खासियत यह होती है कि आकर्षण में कभी भी लड़के और लड़की में प्यार नहीं हो सकता है। आकर्षण में केवल लोग एक दूसरे के साथ खेलते या टाइम व्यतीत करते हैं। कहते हैं कि प्यार हरदम दिल से होता है। और आकर्षण केवल हमारी दिमाग की एक उपज होती है.

जब  हमें किसी से प्यार होता है तो हम उस व्यक्ति के लिए किसी भी तरह से Sacrifice करने के लिए हरदम तैयार रहते हैं। और अगर यही पर हमें उस व्यक्ति से केवल आकर्षण होता है तो हमें उस व्यक्ति के लिए कोई समझौता करना असंभव होता है।

प्यार क्या है और क्यों होता है

हम आपको प्यार आकर्षण में कुछ अच्छे Points बताते हैं जिनके माध्यम से आप बहुत ही आसानी से समझ सकते हैं कि प्यार क्या है और आकर्षण में क्या होता है, इन दोनों किस तरह से अलग अलग हैं। पहली बात प्यार में हरदम व्यक्ति अपने Partner की खुशी देखता है.

बल्कि वहीं पर आकर्षण में वह व्यक्ति केवल अपनी खुशी देखता है। दूसरा पॉइंट, प्यार में हरदम जलन की भावना होती है आप अपने Partner की Care करते हैं अगर आपका पार्टनर किसी से बात करता है तो आपके अंदर अजीब सी उलझन होती है यानी जलन होती है वहीं दूसरी ओर आकर्षण में ऐसा कुछ भी नहीं होता है।

 प्यार में सबसे ज्यादा क्या जरूरी है

अधिकतर लोगों  के  मन में एक ही सवाल होता है कि प्यार में सबसे ज्यादा जरूरी क्या होता है। अगर आप किसी से प्यार करते हैं तो उस प्यार में सबसे अहम रोल क्या होता है। इसके लिए हम केवल आपको एक ही बात कहना चाहते हैं जहां विश्वास होता है वही केवल प्यार होता है।

क्योंकि सच्चे प्यार की नींव विश्वास पर ही टिकी होती है। अगर एक बार यह विश्वास का धागा का टूट गया तो वहां पर कभी भी प्यार दोबारा अपनी जगह नहीं बना पाता है। ये प्यार का पहला नियम और उसूल है.

 प्यार क्यों होता है

प्यार क्यों होता है इसे परिभाषित करना बहुत ही मुश्किल है। क्योंकि कहते हैं कि प्यार किसी से किया नहीं जाता बल्कि हो जाता है। जैसे कि हमने ऊपर आपको बताया है कि प्यार की अपनी अलग अलग मायने होते हैं.

अब रही बात अपने जीवनसाथी या Girlfriend से प्यार करने की यह तो जिंदगी की सच्चाई है। आपको अपनी पूरी जिंदगी में एक बार किसी ना किसी से प्यार तो अवश्य होगा।

आपको प्यार किसी लड़की की खूबसूरती देखकर भी हो सकता है। या फिर आपको प्यार किसी लड़की की  सादगी को देखकर हो सकता है। सच्चे प्यार में कभी भी स्वार्थ नहीं होता है। जहां स्वार्थ होता है वहां पर कभी भी सच्चा प्यार नहीं होता है यही सच्चाई है।

 क्या प्यार करना सही है

ये सवाल हर किसी व्यक्ति के मन में होता है कि क्या प्यार करना सही है? जी हां प्यार करना चाहिए। पर जब आप किसी से प्यार करें तो बहुत ही सोच समझकर प्यार करें। कहते हैं कि प्यार में कोई जल्दबाजी नहीं होती है।

क्योंकि आज के टाइम में 90% लोग प्यार का गलत फायदा उठाते हैं। प्यार के नाम पर लोगों का Misuse करते हैं। इसीलिए हम कहते हैं कि प्यार में आपको बहुत ही सोच समझ  करना चाहिए। अगर आप किसी के सुंदरता और शारीरिक प्यार करते हैं तू वहां पर हम उसे प्यार नहीं मानते हैं।

क्योंकि सच्चे प्यार में कभी भी रंग रूप खूबसूरती हवस इन चीजों की कहीं पर भी जगह नहीं होती है। सच्चे प्यार में दिल और मन दोनों का मिलन होता है। सच्चे प्यार में एक दूसरे पार्टनर के विचार मिलते हैं।

सच्चे प्यार में जब एक दूसरे को कुछ Problem आती है तो दोनों Partner हरदम उस समस्या में एक दूसरे के साथ खड़े रहते हैं। यही सच्चे प्यार की निशानी है। इसीलिए कहते हैं कि प्यार करना तो आसान होता है पर सच्चे प्यार को निभाना बहुत मुश्किल होता है।

इन्हें भी जरूर पढ़ें –

ये था हमारा लेख प्यार क्या है – What Is Love In Hindi जिसमें हमने आपको प्यार के बारे में पूरी जानकारी विस्तार से देने की पूरी कोशिश की है। उम्मीद है ये  आर्टिकल आपको पसंद आया होगा। अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो आप हमें कमेंट करके अपनी राय अवश्य दें।

इस लेख को Like और Share जरूर करें ताकि ये दूसरों तक भी पहुँच सके. हमारे साथ जुड़ने के लिए हमारे Facebook Page को Like करें और हमें Subscribe जरूर कर लें. धन्यवाद.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *